Pages

06 March, 2014

सीएम के सामने ही प्रदर्शन कर रही जदयू कार्यकर्ताओं ने महिलाओं को पीटा

http://www.bhaskar.com/article/BIH-PAT-women-workers-beat-in-frount-of-chief-minister-4541506-NOR.html
बगहा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सभा में बुधवार को मध्याह्न भोजन से जुड़ी रसोइयों और टीईटी पास अभ्यर्थियों ने हंगामा किया। इससे नाराज जदयू कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री के सामने ही रसोइयों और टीईटी पास अभ्यर्थियों की पिटाई कर दी। इसमें पांच महिला रसोइये और पांच अभ्यर्थी को चोटें आईं। हंगामे और मारपीट के कारण कुछ देर के लिए सभा में अफरातफरी मच गई। इसके बाद मुख्यमंत्री ने रसोईया संघ की एक नेता को मंच पर बुलाकर उसकी समस्या सुनी और सकारात्मक आश्वासन दिया। मुख्यमंत्री संकल्प यात्रा के दूसरे चरण में बगहा पहुंचे थे।

हुआ यह कि रसोइये अपनी सेवा शर्त में सुधार की मांग को लेकर नारेबाजी कर रही थीं। इसी बीच टीईटी पास अभ्यर्थी भी हंगामा करने लगे। उनका कहना था कि शिक्षकों के करीब डेढ़ लाख पद खाली हैं, लेकिन उन्हें नौकरी नहीं दी जा
रही है।

वे सरकार विरोधी नारे लगा रहे थे। इसी दौरान प्रदर्शनकारियों ने मुख्यमंत्री को काला झंडा दिखाया। इसके बाद जदयू कार्यकर्ता आपे से बाहर हो गये। दर्जनों कार्यकर्ता प्रदर्शनकारियों पर टूट पड़े। महिलाओं को भी नहीं बख्शा। मध्य विद्यालय, पतिलार की रसोइया चिंता देवी को तो बुरी तरह पीटा। काफी मशक्कत के बाद पुलिसकर्मियों ने उसे बचा कर निकाला। हालांकि, सांसद वैद्यनाथ महतो ने जदयू कार्यकर्ताओं के हमले से इनकार किया है।

टेट एस्टेट ने निकला मार्च




03 March, 2014

PATNA:अच्छे अंक लाने वाले अभ्यर्थी ही अब सूबे के विश्वविद्यालयों में शिक्षक बन सकेंगे

PRABHAT KHABAR 22 FEB 2014

BHASKAR NEWS 27 FEB 2014


पुराने शिक्षकों की हेराफेरी से 20 हजार नौकरी से वंचित

पुराने शिक्षकों की हेराफेरी से 20 हजार नौकरी से वंचित
ब्रज किशोर दूबे|Feb 27, 2014, 05:42AM IST
पटना. राज्य में कुल 43 हजार प्रशिक्षित अभ्यर्थियों ने टेट-एसटेट पास किया। लेकिन, इनमें से करीब 20 हजार को नौकरी नहीं मिली। वजह है-काउंसलिंग का सेंट्रलाइज नहीं होना। इस बार कैंपवार नियुक्ति पत्र बांटे गए।
इस वजह से 2012 में नौकरी पा चुके कई शिक्षकों ने टेट रिजल्ट का कलर स्कैन करा लिया और इस साल लगे कैंप में शामिल होकर मनचाही जगह नौकरी पा ली। ऐसे अभ्यर्थियों की वजह से कटऑफ नीचे नहीं गया। क्योंकि, उनका कटऑफ बेहतर था। इसलिए पहले नौकरी भी मिली थी। नौकरी पा चुके ऐसे अभ्यर्थियों की जालसाजी से कम नंबर वाले टेट पास अभ्यर्थियों को मौका नहीं मिला।स्कैन सर्टिफिकेट के सहारे शिक्षक पा रहे मनचाही जगह नौकरीइस वजह से प्रशिक्षित अभ्यर्थियों को नहीं मिल रही जगह
प्राइमरी शिक्षक 1.68
लाख खाली पद 1.25
लाख पास हुए 70 हजार लोग बहाल हुए
माध्यमिक शिक्षक
17.5
हजार खाली पद
89
हजार लोग पास हुए
10
हजार लोग बहाल हुए
उच्च. माध्यमिक स्कूल
43
हजार खाली पद
20
हजार पास हुए
05
हजार लोग बहाल हुए

अनशन शुरू
नियोजन में हुई धांधली की मांग को लेकर मंगलवार से प्रशिक्षित शिक्षक अभ्यर्थी संघ के बैनर तले अभ्यर्थी आर ब्लॉक पर अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठ गए। इन्हीं का दावा है कि 20 हजार अभ्यर्थियों को इस प्रक्रिया की वजह से नौकरी नहीं मिली।

क्या है पूरा मामला
2005
में बहाल शिक्षकों की दक्षता पर जब सवाल उठे तो राज्य सरकार ने 2011 में शिक्षक पात्रता परीक्षा लेकर शिक्षक बहाली करने फैसला किया। प्रारंभिक प्राथमिक, मध्य प्राथमिक, माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक के लिए गए शिक्षक पात्रता परीक्षा में लगभग 32 लाख छात्रों ने भाग लिया। इस परीक्षा में पास अभ्यर्थियों में प्रशिक्षित एवं अप्रशिक्षित दोनों थे। सरकार ने शिक्षक पात्रता परीक्षा पास करने वाले अभ्यर्थियों से वादा किया था कि प्रशिक्षित अभ्यर्थियों का नियोजन हो जाने के बाद खाली सीटों पर अप्रशिक्षितों का नियोजन किया जाएगा। लेकिन, प्रशिक्षितों को इस बार मौका नहीं मिला।

बेरोजगार हैं

सरकार ने शिक्षकों के नियोजन के लिए पूरे राज्य में 9000 नियोजन ईकाई का गठन किया। लेकिन एक-दूसरे में नियोजन ईकाई का संपर्क नहीं होने के कारण कटऑफ लिस्ट नीचे नहीं आ सका। 2012 के काउंसलिंग में कम माक्र्स होने के कारण जो प्रशिक्षित बहाल नहीं हो सके थे, वे आज भी बेरोजगार हैं।

प्राइमरी शिक्षकों ने ज्वाइन किया हाईस्कूल

कुछ ऐसे शिक्षक हैं, जिनका कटऑफ हाई था। मौका नहीं मिला तो इन्होंने पहले प्राथमिक स्कूल ज्वाइन कर लिया। इस साल कैंप के माध्यम से प्राथमिक शिक्षक की नौकरी छोड़ हाईस्कूल को ज्वाइन कर रहे हैं। इससे वहां की सीटें खाली रह जा रही हैं। इससे इन्हें तो कोई फर्क नहीं पड़ रहा, लेकिन अभ्यर्थियों की नौकरी इनके कारण रुक रही है।

यह गैरकानूनी है

स्कैन सर्टिफिकेट जमा कर नौकरी लेना गैरकानूनी है। शिकायत मिलने पर विभाग कार्रवाई करेगा। अभी तक किसी ने शिकायत दर्ज नहीं कराई है। आरएस सिंह, संयुक्त निदेशक शिक्षा विभाग।
 

भास्कर की खबर का असर, स्कैन सर्टिफिकेट पर नौकरी ली, होगा केस


भास्कर की खबर का असर, स्कैन सर्टिफिकेट पर नौकरी ली, होगा केस

पटना. राज्य के टीईटी एवं एसटीईटी पास सभी प्रशिक्षित अभ्यर्थियों का नियोजन किया जाएगा। शिक्षा विभाग ने शुक्रवार को पत्रांक संख्या – 2722 जारी कर प्रशिक्षित
अभ्यर्थियों की सभी मांगों को मानने की घोषणा की। भास्कर ने 27 फरवरी को खुलासा किया था कि पुराने शिक्षकों की हेराफेरी के कारण 20 हजार नौकरी पाने से वंचित रह गए हैं। इसी को आधार मानते हुए शिक्षा विभाग के माध्यमिक निदेशक आरबी चौधरी द्वारा शुक्रवार को जारी पत्र में कहा गया है कि स्कैन सर्टिफिकेट के सहारे नौकरी पाने वाले राज्य के सभी शिक्षकों पर प्राथमिकी दर्ज की जाएगी। अगले कैंप के लिए रिक्तियों की दस गुना की सीमा को समाप्त कर दिया गया है। वहीं, नियोजन प्रक्रिया समाप्त होने तक नियुक्त हो चुके शिक्षकों को उनके टीईटी एवं एसटीईटी के अंक प्रमाण पत्र नहीं लौटाए जाएंगे। प्रशिक्षित अभ्यर्थियों के नहीं मिलने पर ही अप्रशिक्षितों का नियोजन किया जाएगा। अनशनकारियों को दिलासा शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव अमरजीत सिन्हा ने
अनशनकारी टीईटी एवं एसटीईटी पास शिक्षक अभ्यर्थियों से समझौता के दौरान तीन मार्च तक डीईओ और डीपीओ की बैठक के बाद नियोजन के लिए अगली कैंप की तिथि जारी करने का आश्वासन दिया। इस मौके पर शिक्षा विभाग के माध्यमिक शिक्षा निदेशक
आरबी चौधरी और उप निदेशक अजीत कुमार उपस्थित थे।

पटना. राज्य के टीईटी एवं एसटीईटी पास सभी प्रशिक्षित अभ्यर्थियों का नियोजन किया जाएगा।


पटना. राज्य के टीईटी एवं एसटीईटी पास सभी प्रशिक्षित अभ्यर्थियों का नियोजन किया जाएगा। शिक्षा विभाग ने शुक्रवार को पत्रांक संख्या 2722 जारी कर प्रशिक्षित... अभ्यर्थियों की सभी मांगों को मानने की घोषणा की। भास्कर ने 27 फरवरी को खुलासा किया था कि पुराने शिक्षकों की हेराफेरी के कारण 20 हजार नौकरी पाने से वंचित रह गए हैं। इसी को आधार मानते हुए शिक्षा विभाग के माध्यमिक निदेशक आरबी चौधरी द्वारा शुक्रवार को जारी पत्र में कहा गया है कि स्कैन सर्टिफिकेट के सहारे नौकरी पाने वाले राज्य के सभी शिक्षकों पर प्राथमिकी दर्ज की जाएगी। अगले कैंप के लिए रिक्तियों की दस गुना की सीमा को समाप्त कर दिया गया है। वहीं, नियोजन प्रक्रिया समाप्त होने तक नियुक्त हो चुके शिक्षकों को उनके टीईटी एवं एसटीईटी के अंक प्रमाण पत्र नहीं लौटाए जाएंगे। प्रशिक्षित अभ्यर्थियों के नहीं मिलने पर ही अप्रशिक्षितों का नियोजन किया जाएगा। अनशनकारियों को दिलासा शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव अमरजीत सिन्हा ने अनशनकारी टीईटी एवं एसटीईटी पास शिक्षक अभ्यर्थियों से समझौता के दौरान तीन मार्च तक डीईओ और डीपीओ की बैठक के बाद नियोजन के लिए अगली कैंप की तिथि जारी करने का आश्वासन दिया। इस मौके पर शिक्षा विभाग के माध्यमिक शिक्षा निदेशक आरबी चौधरी और उप निदेशक अजीत कुमार उपस्थित थे।

शिक्षक अभ्यर्थी ने शिक्षा मंत्री का पुतला फुका


शिक्षक बहाली में सरकार बरते पारदर्शिता : राजद

शिक्षक बहाली में सरकार बरते पारदर्शिता : राजद
पटना (एसएनबी)। प्रदेश राजद अध्यक्ष डॉ. रामचन्द्र पूव्रे ने राज्य सरकार से प्रशिक्षित शिक्षक नियोजन प्रक्रिया में पारदर्शिता अपनाने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि शिक्षकों के नियोजन...प्रक्रिया में मनमानी और भ्रष्ट तरीका अपनाये जाने के कारण पिछले 25 फरवरी से पटना के आर ब्लॉक पर प्रशिक्षित अभ्यार्थियों का आमरण अनशन चल रहा है, लेकिन सरकार इनकी कोई सुध नहीं ले रही है। श्री पूर्वे ने राज्य सरकार से उर्दू शिक्षकों का भी नियोजन अतिशीघ्र सुनिश्चित करने की मांग की है। शनिवार को बिहार राज्य प्रशिक्षित शिक्षक अभ्यर्थी के एक शिष्टमंडल ने प्रदेश राजद अध्यक्ष डॉ. रामचन्द्र पूव्रे एवं प्रदेश प्रवक्ता एजाज अहमद से मुलाकात की और उन्हें बताया की हजारों अभ्यर्थी अनशन पर हैं, लेकिन राज्य सरकार का कोई प्रतिनिधि अबतक इनके मांगों को सुनने के लिए नहीं आया जिस कारण सभी का स्वास्थ्य दिन प्रतिदिन बिगड़ता जा रहा है। प्रवक्ता एजाज अहमद ने बताया की राजद प्रशिक्षित शिक्षकों की मांगों को लेकर राज्य सरकार पर दबाव बनाने के लिए हर स्तर पर अभियान चलायेगा। साथ ही गांधी मैदान में मेगा कैम्प लगाकर इन्हें नियोजित करने के लिए राज्य सरकार पर दवाब बनाकर इन सभी न्याय दिलायेगा।